Google Search

Monday, March 17, 2014

kranebits #12

''आज, कल, परसों, बाद में'' इससे दिन महिने साल और कभी तो पूरी जिन्दगी भी गुजर जाती है,

अपने काम और जिम्मेदारी को सदा तत्परता से लें ।



No comments: