Google Search

Friday, October 14, 2011

India Today 2011

>>>दोस्तों मौजूदा हालातों पे कुछ टिप्पणी कर रहा हूँ, ज़रा गौर फ़र्माईयेगा, अगर पसन्द आजाये तो comments से नवाज़ियेगा और sharing से फ़ैलाईयेगा  ।<<<

  • इन दिनो चाहे आपका नाम बड़ा हो ना हो, पेह्चान ऊपर तक होनी चाहिये।


  • स्कूल में पढ़ाई चाहे जितनी भी की हो, काँलेज के लिये लाखों रुप्यों का donation तैयार रेह्ना चाहिये।


  • आपका दोस्त नया हो या पुराना, हर हाँलिडे पे उसे लम्बा चौड़ा SMS ज़रूर पहुँच जाना चाहिये।


  • Girlfriend भोली हो याँ चालू, chocolate का डब्बा हर संन्डे को देना।


  • पानी आपके घर आये ना आये, water-tax का बिल ज़रूर आयेगा।


  • Computer, T.V., Fridge चाहे जो लेलो बिजली कटौती के आगे सब बेकार।


  • हमें आँफ़िस से छुट्टी हो ना हो, कामवाली बाई को regular holiday चाहिये।


  • घर बड़ा हो या छोटा माँ-बाप की ज़िम्मेदारी बोझ लगने लगती है।


  • ' अतिथी देवो भवः ' भुलाकर, नया नारा है ' अनचाहे मनुष्य का प्रवेश निषेद है  '।


  • समाज में हो दंगे या कहीं लगजाये आग, हर कोई सुनाता है बस अपना ही राग।


  • दरवाज़ा हो या music-system, पड़ोसी को सताने के लिये हर रोज़ जोर-जोर से बजायेंगे।


  • चाहे हो कोई गली, मोहल्ला या अपार्टमेंट, कूडा-कर्कट तो रास्ते पर ही आयेगा।


  • चला रहे हों साईकल, मोटर-बाईक या कार, लाट-साहब का एक हाथ mobile पर ही रह्ता है।


  • नौकरी हो स्कूल, दफ़्तर यां फ़िर किसी फ़ैक्ट्री में, गंदी office-politics शरीफ़ इन्सान को डंस ही लेती है।


  • धर्म और फ़र्ज़ का तो ठिकाना नहीं, अपना हक़्क माँगने सब पहुँच जाते हैं।


  • पैसे से बहुत कुछ मिलता है सब कुछ नहीं, मगर पैसों की लालच में इन्सान कुछ भी कर सकता है।


  • छोटी बात, मुश्किल बात, या गैर ज़रूरी बात सभी लोग कल करेंगे, वो 'कल' कभी न आया और न आयेगा।


  • चोरी, बलात्कार, घाव और कत्ल जिनपे बीती उन्होंने जानी, बाकी सबने तो बस कहानी मानी।


  • वक्त की मांग विश्व-शांति, लोगों की जान sheila aunty।


  • शरीफ़ को डर, सज्जन को लाज, बच्चों को डाँट, जानवर को मार, अपाहिच को शर्म और, कमीनों को अईयाशी; हे भगवान कैसे तूने ये अनोखी जोड़ियां बनायी।


  • प्रेम-सबंधं अथ्वा विवाह हो ना हो, sex-partner ज़रुर चाहिये।

6 comments:

Shweta said...

Ooopss such true statements, this is a fact of life today and shows what are we losing day by day ... lovely.

Anonymous said...

India today, tomorrow, may be forever... :(

abhi.freeman said...

Very nicely and poetically written article. Glad that the article is titled India Today 2011. Shows that you are showing hope that it might not be the same in the future! :)

aj said...

I want to add
1.vaada na todo lekin vaada karne se phele sach bol do apne vicharon ki mansha.

2.Andhere mein na rakho kisiko....khahin bhavishay mein tumhe uska sahara na ban na pade...

RedDevil said...

Good one..keep going...

kashyap said...

true facts of today's life...........